44Exams.com को एक ऐसे मंच के रूप में तैयार किया जा रहा है जहाँ से आपको सभी सरकारी नौकरियों की तैयारी से सम्बंधित सामिग्री प्राप्त होती रहें | कृपया इस बारे में अपने प्रिय मित्रो को भी बताएं

आई.ए.एस नीतिशास्त्र : यू.पी.एस.सी हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक | IAS Ethics Notes : UPSC Hindi PDF Book

आई.ए.एस नीतिशास्त्र : यू.पी.एस.सी हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक | IAS Ethics Notes : UPSC Hindi PDF Book 


आई.ए.एस नीतिशास्त्र : यू.पी.एस.सी हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक | IAS Ethics Notes : UPSC Hindi PDF Book


Pustak Ka Naam / Name of Book : आई.ए.एस नीतिशास्त्र / IAS Nitishastra 

Hope This IAS Ethics Notes Book will Step up you to Succeed / आशा करते हैं आई.ए.एस नीतिशास्त्र पुस्तक आपके कदम सफलता की ओर ले जायगी

Pustak Ka Prakar / Format - PDF

Pustak Ki Bhasha / Language of Book : हिंदी / Hindi

Pustak Ka Akar / Size of Ebook : 32 MB

Pustak Mein Kul Prashth / Total pages in ebook : 145

Pustak Download Sthiti / Ebook Downloading Status  : Best 
(If you're facing any issue while downloading this book please let us know about it in comment section / कृपया कमेंट के माध्यम से हमें पुस्तक के डाउनलोड ना होने की स्थिति से अवगत कराते रहें )

आई.ए.एस नीतिशास्त्र : यू.पी.एस.सी हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक | IAS Ethics Notes : UPSC Hindi PDF Book


आई.ए.एस नीतिशास्त्र PDF Pustak Ka Vivaran : Riti, prachalan ya aadat nitishastr niti, prachalan ya aadat ka vyavasthit adhyayan hai. Nitishastr ek aisa aadarshavadi vigyan hai, jo manav aacharan ka mulyankan karta hai aacharan ke antargatmanushy ki keval echchhik kriyaye aati hai. Unhi kriyayo ko echchhik kaha jata hai. Jisake karne mein vyakti apne sankalp ka kaam leta hai.....

अन्य यू.पी.एस.सी पुस्तकों के लिए यहाँ दबाइए- "यू.पी.एस.सी पुस्तक"

IAS Nitishastra PDF Description about eBook : Method, practice or habit Ethics is a systematic study of religion, practice or habit. Ethics is an idealistic science, which evaluates human behavior only involves voluntary action of inwardness. Their activities are called voluntary. In which the person takes the job of his resolve..........

To read other UPSC books click here"UPSC Books"


UPSC MAINS SYLLABUS OF GENERAL STUDIES PAPER IV – ETHICS IN HINDI/ENGLISH

  • नैतिकता और मानवीय व्यवहार/Ethics and Human Interface:-


मानवीय गतिविधियों में नैतिकता का सार, निर्धारक तत्त्व एवं परिणाम, नैतिकता के आयाम (dimensions), निजी और सार्वजनिक संबंधों में नैतिकता का स्थान.

The essence of ethics in human activities, the determinant principle and outcome, the dimensions of ethics, the place of ethics in private and public relations.

  •  मानवीय मूल्य/Human Values: –

महान नेताओं के जीवन और उपदेशों से शिक्षा ग्रहण करना; सुधारक और प्रशासक;परिवार की भूमिका; मूल्यों के ग्रहण में समाज और शैक्षिक संस्थानों का महत्त्व.
Acquiring education from the life and teachings of great leaders; Reformer and administrator; role of family; Importance of society and educational institutions in the eclipse of values

  •  मनोवृत्ति/Attitude:-

विषयवस्तु; संरचना; कार्य.. विचार एवं व्यवहार के सन्दर्भ में मनोवृत्ति का प्रभाव; नैतिक और राजनैतिक मनोवृत्ति, सामजिक प्रभाव और प्रोत्साहन.
सिविल सेवा के लिए मनोवृत्ति और मूलभूत मूल्य, ईमानदारी, निष्पक्षता और पक्षपात रहित होना; वस्तु परखता (objectivity), जन सेवा के प्रति समर्पण, कमजोर वर्गों के प्रति समवेदना, सहिष्णुता और दया.
subject object; Structure; Work .. Effect of Attitude in the context of Ideas and Behavior; Ethical and political attitudes, social impact and encouragement
Attitudes and fundamental values, honesty, fairness and no discrimination for civil service; Objectivity, devotion to public service, compassion for weaker sections, tolerance and kindness.

  • भावनात्मक बुद्धि/Emotional Intelligence:-

अवधारणायें तथा प्रशासन और शासन में इनकी उपयोगिता; भारत एवं दुनिया के नैतिक विचारकों और दार्शनिकों का योगदान.
Concepts and their usefulness in administration and governance; Contributions of Ethical Thinkers and Philosophers of India and the World

  • लोक सिविल सेवा के मूल्य और लोक प्रशासन में नैतिकता/Ethics in public civil service value and public administration: -

स्तर और समस्याएँ; सरकारी और निजी संस्थानों में नैतिक सरोकार और दुविधाएँ; नैतिक मार्गार्शन के स्रोत के रूप में कानून, नियम, विनियम और विवेक, उत्तरदायित्व और नैतिक प्रशासन; प्रशासन में नैतिक मूल्य को मजबूत करना; अंतर्राष्ट्रीय सम्बन्धों और वित्त पोषण में नैतिक मूल्य; कॉर्पोरेट प्रशासन.
Levels and problems; Ethical concerns and dilemmas in government and private institutions; Law, rules, regulations and discretion, accountability and ethical administration as the source of ethical migration; Strengthen ethical values in the administration; Ethical values in international relations and financing; Corporate Administration

  • शासन में ईमानदारी/Probity in Governance:-

लोक सेवा की अवधारणा; प्रशासन और ईमानदारी का दार्शनिक आधार; सरकार में सूचना साझा करना और पारदर्शिता; सूचना का अधिकार; नैतिक आचार संहिता; आचार संहिता, सिटीजन चार्टर; कार्य संस्कृति; सेवा प्रदान करने में गुणवत्ता; लोक निधि का उपयोग; भ्रष्टाचार से उत्पन्न बाधाएँ.
Concept of public service; Philosophical basis of administration and integrity; Sharing information and transparency in government; Right to information; codes of ethics; Code of Conduct, Citizen's Charter; Work culture; Quality in providing service; Use of public funds; Obstacles arising from corruption


सभी प्रतियोगी परीक्षा पुस्तकें ( Free Competitive Exam e-books ) यहाँ देखें





इस पुस्तक को दुसरो तक पहुचाएं 






Competitive Exams Books in English PDF Click Here to Check


One Quotation / एक उद्धरण

“जीवन जीने के दो ही तरीके हैं। एक तो ऐसे जैसे कि कुछ भी चमत्कारी नहीं है। और दूसरा जैसे कि सब कुछ चमत्कारी है।”
अल्बर्ट आइन्सटाइन

--------------------------------

“There are only two ways to live your life. One is as though nothing is a miracle. The other is as though everything is a miracle.”
Albert Einstein

Join our Telegram Channel / हमारे  टेलीग्राम  चैनल से जुड़ें 
Join us on Facebook / फेसबुक पर हमसे से जुड़ें 







Post a Comment

0 Comments