44Exams.com को एक ऐसे मंच के रूप में तैयार किया जा रहा है जहाँ से आपको सभी सरकारी नौकरियों की तैयारी से सम्बंधित सामिग्री प्राप्त होती रहें | कृपया इस बारे में अपने प्रिय मित्रो को भी बताएं

भारतीय संस्कृति एक परिचय : सभी प्रतियोगी परिक्षाओ के लिए हिंदी पीडीऍफ़ | Introduction to Indian Culture : for all Competitive Hindi PDF

भारतीय संस्कृति एक परिचय  : सभी प्रतियोगी परिक्षाओ के लिए  हिंदी पीडीऍफ़  | Introduction to Indian Culture : for all Competitive Hindi PDF


Introduction to Indian Culture : for all Competitive Hindi PDF


Pustak Ka Naam / Name of Book : भारतीय संस्कृति एक परिचय  : सभी प्रतियोगी परिक्षाओ के लिए  हिंदी पीडीऍफ़  | Introduction to Indian Culture : for all Competitive Hindi PDF

Hope This Introduction to Indian Culture : Book will Step up you to Succeed / भारतीय संस्कृति एक परिचय : कदम सफलता की ओर ले जायगी

Pustak Ki Bhasha / Language of Book : Hindi/हिंदी  

Pustak Ka Akar / Size of Ebook : MB

Pustak Mein Kul Prashth / Total pages in ebook : 349

Pustak Download Sthiti / Ebook Downloading Status  : Best 
(Report this in comment if you are facing any issue in downloading / कृपया कमेंट के माध्यम से हमें पुस्तक के डाउनलोड ना होने की स्थिति से अवगत कराते रहें )


अन्य कर्रेंट अफेयर्स पुस्तकों के लिए यहाँ दबाइए- "कर्रेंट अ फेयर्स पुस्तक" 


पुस्तक का विवरण :  इस प्रकार संस्कृति मानव जनित पर्यावरण से संबंध रखती  है जिसमे सभी भौतिक और अभौतिक उत्पाद एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी को प्रदान किये जाते है सभी समाज वैज्ञानिक में एक सामान्य सहमति है की संस्कृति में मनुष्यों द्वरा  प्राप्त सभी आंतरिक और व्यवहारों के तरीके समाहित है यह चिन्ह्नो दवरा भी स्थानांतरित किये जा सकते है जिनमे मानवसमूहों की विशिष्ट उपलब्धिय भी समाहित है इन्हें शिल्प्क्लाक्रितो द्वरा मूर्त रूप प्रदान इया जाता है 
अतं संस्कृति का मूल केंद्र बिंदु उन सूक्ष्म विचारों में निहित है जो एक समूह में ऐतिहासिक रूप से उनसे संबंध्द मूल्यों सहित विवेचन होते रहे है

Pustak ka Vivran : is prakaar sanskrti maanav janit paryaavaran se sambandh rakhatee  hai jisame sabhee bhautik aur abhautik utpaad ek peedhee se doosaree peedhee ko pradaan kiye jaate hai sabhee samaaj vaigyaanik mein ek saamaany sahamati hai kee sanskrti mein manushyon dvara  praapt sabhee aantarik aur vyavahaaron ke tareeke samaahit hai yah chinhno davara bhee sthaanaantarit kiye ja sakate hai jiname maanavasamoohon kee vishisht upalabdhiy bhee samaahit hai inhen shilpklaakrito dvara moort roop pradaan iya jaata hai atah sanskrti ka mool kendr bindu un sookshm vichaaron mein nihit hai jo ek samooh mein aitihaasik roop se unase sambandhd moolyon sahit vivechan hote rahe hai

Description of the book : In this way, culture relates to human-born environment in which all physical and non-physical products are provided from one generation to another. All society scientist has a general consensus that culture contains all the internal and behavioral methods received by humans. Devas can also be transferred, which also contains specific achievements of human groups. Then transmitted by is extracted from cool embodies
Therefore, the basic focus of culture lies in the subtle ideas that have been discussed in a group historically along with the values ​​related to them.

To read other Current Affairs books click here"Current Affairs Books"


सभी प्रतियोगी परीक्षा पुस्तकें ( Free Competitive Exam e-books ) यहाँ देखें





इस पुस्तक को दुसरो तक पहुचाएं 






श्रेणियो अनुसार हिंदी पुस्तके यहाँ देखें 


One Quotation / एक उद्धरण


“सफलता हमेशा के लिए नहीं होती, असफलता कभी घातक नहीं होती: यह तो लगे रहने की प्रवृत्ति है जो मायने रखती है।”

‐ विंस्टन चर्चिल

--------------------------------

“Success is not final, failure is not fatal: it is the courage to continue that counts.”

‐ Winston Churchill

Join our Telegram Channel / हमारे  टेलीग्राम  चैनल से जुड़ें 
Join us on Facebook / फेसबुक पर हमसे से जुड़ें 





Post a Comment

0 Comments